बुजुर्ग व्‍यक्ति इस योजना में निवेश कर अपने पैसे को कर सकते हैं दोगुना (फोटो-freepik)

पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम पर बढ़ गया ब्याज, इतने महीने में डबल हो जाएगा पैसा

किसान विकास पत्र में निवेश की राशि पर मिलने वाले ब्याज दर को भी बढ़ा दिया गया है. लोग किसान विकास पत्र में अपने पैसे डबल करने के लिए भी निवेश करते हैं. इस स्कीम में मिनिमम निवेश की राशि 1000 रुपये है. मैक्सिमम निवेश की कोई लिमिट तय नहीं की गई है.

किसान विकास पत्र के नियम में हुआ है बदलाव.

aajtak.in

  • नई दिल्ली,
  • 03 अक्टूबर 2022,
  • (अपडेटेड 03 अक्टूबर 2022, 4:15 PM IST)

पोस्ट ऑफिस (India Post) कई तरह की स्मॉल सेविंग स्कीम (Small Saving Schemes) चलाता है. इनमें से कई काफी पॉपुलर भी हैं. ऐसी ही पोस्ट ऑफिस की एक स्कीम है किसान विकास पत्र (Kisan Vikas Patra). पिछले दिनों सरकार ने इस स्कीम से जुड़े एक नियम में बदलाव किया था. साथ ही किसान विकास पत्र में निवेश की राशि पर मिलने वाले ब्याज दर को भी बढ़ा दिया गया है. लोग किसान विकास पत्र में अपने पैसे डबल करने के लिए भी निवेश करते हैं.

सरकार ने पैसे डबल होने की अवधि को भी कम कर दिया है. इसलिए अब इस स्कीम में निवेश करने पर अधिक ब्याज के साथ पैसा भी पहले के मुकाबले जल्दी ही डबल हो जाएगा.

कितना बढ़ा ब्याज दर?

सम्बंधित ख़बरें

आधार नंबर से हैक हो जाएगा आपका बैंक अकाउंट? सेफ्टी के लिए करें ये काम
इस स्कीम में करें निवेश, बुढ़ापे में मिलेगी पेंशन, अभी बचेगा इतना टैक्स
अक्टूबर में छुट्टियों की भरमार, महीने में 21 दिन बंद रहेंगे बैंक
दूध के प्रोडक्ट की है खूब डिमांड, आप भी कर सकते हैं बिजनेस की शुरुआत
क्रेडिट कार्ड से पेमेंट से लेकर म्यूचुअल फंड तक, आज से ये 6 बड़े बदलाव

सम्बंधित ख़बरें

किसान विकास पत्र में निवेश पर पहले 6.9 फीसदी की दर से ब्याज मिलता था. लेकिन सरकार ने अब इसे बढ़ाकर 7.0 फीसदी कर दिया है. नई दर एक अक्टूबर से प्रभावी हो गई है. 18 साल या उससे अधिक उम्र का कोई भी नागरिक इस स्कीम में निवेश कर सकता है. किसान विकास पत्र में मिनिमम निवेश की राशि 1000 रुपये है. मैक्सिमम निवेश की कोई लिमिट तय नहीं की गई है.

कितने महीने में डबल होगा पैसा?

किसान विकास पत्र में निवेश की राशि पहले 124 महीने में डबल हो जाती थी. सरकार ने इसमें भी बदलाव किया है और राशि डबल होने की अवधि को एक महीने कम कर दिया है. अब इस स्कीम में निवेश की राशि 123 महीने यानी 10 साल तीन महीने में डबल हो जाएगी. ये बदलाव भी एक अक्टूबर से लागू हो गया है. देशभर के किसी भी पोस्ट ऑफिस में इस स्कीम में निवेश करके लाभ उठाया जा सकता है.

किसान विकास पत्र में 10 साल से कम उम्र के नाबालिग की ओर से कोई भी व्यस्क अकाउंट खुलवा सकता है. जैसे ही नाबालिग की उम्र 10 साल होगी, खाता उसके नाम पर ट्रांसफर कर दिया जाता है. पोस्ट ऑफिस की इस स्कीम में एक साथ 18 साल या उससे अधिक की उम्र के तीन लोग ज्वाइंट अकाउंट खुलवा सकते हैं.

रिटर्न पर भरना पड़ता है टैक्स

किसान विकास पत्र का मैच्योरिटी पीरियड अब 123 महीने हो गया है. अगर कोई इस स्कीम को खरीदने के एक साल के भीतर ही वापस कर देता है, तो उसे किसी भी तरह के ब्याज का लाभ नहीं मिलेगा. पोस्ट ऑफिस की ये स्कीम इनकम टैक्स अधिनियम (Income Tax Act) 80c के तहत नहीं आती है. इस वजह से निवेश राशि पर जो भी रिटर्न आपको मिलेगा, उसपर आपको टैक्स भरना होगा. हालांकि, इस स्कीम में TDS की कटौती नहीं की जाती है.

कैसे खुलेगा खाता?

अगर आप किसान विकास पत्र में निवेश करना चाहते हैं, तो इसके लिए आपको नजदीकी पोस्ट ऑफिस जाना होगा. वहां, जमा रसीद के साथ आवेदन भरें. इसके बाद निवेश की रकम नगद, चेक, डिमांड ड्राफ्ट या पे ऑर्डर के माध्यम से जमा कर दें. आवेदन के साथ पहचान पत्र की फोटो कॉपी जरूर ब्याज पर पैसा निवेश करना कहाँ लाभदायक है लगाएं. आवेदन और पैसा जमा करने के बाद आपको किसान विकास पत्र का प्रमाण पत्र मिल जाता है.

किसान विकास पत्र में अगर आप 50 हजार से अधिक की राशि निवेश करते हैं, तो आपको पैन कार्ड की डिटेल्स शेयर करनी पड़ेगी. इस स्कीम के जरिए आप लोन ले सकते हैं. किसान विकास पत्र को आप गारंटी के तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं.

मोदी सरकार की इन 6 स्कीम में करें Invest, पैसे डबल होने के साथ मिलेंगे ये फायदे

सरकार के सबसे ज्यादा रिटर्न देने वाली टॉप 6 इन्वेस्टमेंट स्कीम के बारे में जानिए

भविष्‍य सुरक्षित करने के लिए सबसे जरूरी है सही जगह पैसा लगाना. आपकी इस टेंशन को दूर करने के लिए हम आपको बता रहे हैं सरक . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : January 08, 2020, 08:31 IST

नई दिल्ली. समय किसी के लिए नहीं रुकता है. कब और कहां किसको पैसों की जरूरत पड़ जाए इस बात का अंदाज़ा लगाना बहुत ही मुश्किल है. इसलिए सही समय पर सही जगह पैसा लगाना सही होता है. क्योंकि भविष्य संवारने के लिए केवल बड़ी रकम की जरूरत नहीं होती है. बल्कि, सही वक्त पर निवेश (Invest) का फैसला भी अहम होता है. इसलिए आप अभी इन्वेस्टमेंट का फैसला लेंगे तो उसका फायदा आपको लॉन्ग टर्म में मिलेगा. इसीलिए आज आज हम आपको सरकार की ऐसी ही 6 सबसे ज्यादा रिटर्न देने वाली स्कीम्स के बारे में बता रहे हैं.

(1) सुकन्या समृद्धि योजना- सालाना 8.40 फीसदी का रिटर्न
अगर आप अपनी बिटिया की भविष्य को सुरक्षित करना चाहते हैं तो आपके लिए सुकन्या समृद्धि योजना सबसे बेहतर विकल्प है.भारत सरकार की ओर से लड़कियों की शादी और उच्च शिक्षा के लिए शुरू की गई एक निवेश योजना है. जिसे 'बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ' स्कीम के तहत लॉन्च किया गया है.

फिलहाल इसमें 8.40 फीसदी की सालाना ब्याज मिल रहा है. इसमें टैक्स छूट के साथ-साथ मेच्योरिटी पूरी होने के बाद इसकी इनकम टैक्स फ्री होती है.

(2) पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF)- सालाना 7.9 फीसदी का रिटर्न
पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) में निवेश हर किसी के लिए सबसे आसान विकल्प है. अगर लॉन्ग टर्म का नजरिया हो तो PPF में जरूर निवेश करें. फिलहाल PPF पर सरकार की ओर से 7.9 फीसदी की दर से सालाना ब्याज मिल रहा है.

नये साल पर इस सुरक्षित स्कीम में पैसे लगाकर निवेश की शुरुआत कर सकते हैं. सबसे अच्छी बात यह है कि महज 500 रुपये से भी PPF में निवेश की शुरुआत की जा सकती है.

इसके लिए किसी भी बैंक या पोस्ट ऑफिस में PPF अकाउंट खोल सकते हैं. इनकम टैक्स कानून के सेक्शन 80C के तहत आप PPF में सालाना 1.5 लाख रुपये के निवेश पर टैक्स छूट पा सकते हैं. PPF पर ब्याज दरों की हर तिमाही समीक्षा की जाती है.

(3) प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन- हर महीने मिलेगी 3000 रुपये पेंशन
प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन (पीएमएसवाईएम) पेंशन योजना असंगठित क्षेत्र के कामगारों के लिए है. यह योजना 15,000 रुपये प्रति माह कमाने वाले कामगारों के लिए है ताकि 60 साल की उम्र के बाद वे 3,000 रुपये की मासिक पेंशन प्राप्त कर सकें. इस योजना में 18 से 40 साल तक के कामगार शामिल हो सकते हैं. इस स्कीम की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इसमें 55 रुपये प्रतिमाह निवेश करने पर 3000 रुपये हर महीने पेंशन के तौर पर मिलेंगे.

(4) नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट- सालाना रिटर्न 7.9 फीसदी
पोस्ट ऑफिस (Post Office) की ये स्कीम नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट्स यानी एनएससी (NSC) है. इस स्कीम में निवेश करने पर आपका पैसा 119 महीने में दोगुना हो जाएगा. इस स्कीम की खासियत यह है कि इसमें आप मात्र 100 रुपये से निवेश कर सकते हैं और इस पर टैक्स छूट का लाभ भी ले सकते हैं. पोस्ट ऑफिस के NSC स्कीम के तहत निवेश की कुल अवधि 5 साल की है.

इंडिया पोस्ट के अनुसार इस स्कीम के तहत खाता कम से कम 100 रुपये से खुलता है. NSC के तहत खाता देशभर में पोस्ट ऑफ‍िस के ब्रांच में खोला जा सकता है. वहीं, इसमें निवेश की अधिकतम लिमिट तय नहीं है. NSC में पैसा 119 महीने में दोगुना हो सकता है. NSC में 100 रुपये निवेश करने पर यह 5 साल बाद 146 रुपये हो जाता है. इस तरह, निवेश दोगुना होने में इसमें 9.11 साल यानी 119 महीने का समय लगेगा.

(5) किसान विकास पत्र- 9 साल में पैसे हो जाएंगे डबल!
केंद्र सरकार (Central Government) ने किसान विकास पत्र (KVP) के बारे में एक खास नोटिफिकेशन जारी किया था. इस नोटिफिकेशन में साल 2014 के नियमों में कई बदलाव किया गया है. केवीपी में 9 साल और 5 महीने में आपके पैसे के डबल होने की गांरटी होती है.

अगर आप आज यानी 5 जनवरी 2020 को केवीपी में 50 हजार रुपये जमा करते हैं तो यह रकम जून 2029 तक डबल हो जाएगा.

इसमें आप 100 के मल्टीपल में कोई भी रकम जमा कर सकते हैं, लेकिन आपके इस बात का ध्यान रखना होगा कि पहली बार इसमें कम से कम 1 हजार रुपये जमा करना होगा. केवीपी अकाउंट में अधिकतम रकम रखने की कोई सीमा नहीं है. आप चाहें तो एक से अधिक केवीपी अकाउंट भी खोल सकते हैं.

(6) अटल पेंशन योजना-हर महीने मिलेगी 5000 रुपये पेंशन
अटल पेंशन योजना (APY) असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले लोगों के लिए काफी फायदेमंद स्कीम है. मोदी सरकार ने इसकी शुरुआत मई 2015 में की थी. इस योजना के तहत रिटायरमेंट के बाद के खर्च के लिए नियमित आय मिलती है.

18 से 40 साल के लोग इस योजना का लाभ उठा सकते हैं, इस योजना के तहत पेंशन पाने के लिए कम से कम 20 साल तक निवेश करना होगा. योजना के मुताबिक न्यूनतम 1,000 रुपये और अधिकतम 5,000 रुपये मासिक पेंशन मिल सकता है. पेंशन का लाभा 60 साल की उम्र से मिलना शुरू हो जाएगा. अगर कोई 18 साल का युवा अटल पेंशन योजना से जुड़ता है तो उसे हर महीने 210 रुपये का निवेश करना होगा.

पर्सनल फाइनेंस: लोन के ब्याज पर ब्याज देने की बजाय निवेश में ब्याज पर ब्याज लीजिए, जानिए कैसे मिल सकता है आपको यह फायदा

जितना जल्दी आप निवेश शुरू करेंगे, आपको लंबी अवधि में कंपाउंडिंग का उतना ही फायदा मिलेगा। कंपाउंडिंग के पावर की वजह से आपको समय के साथ रिटर्न पर रिटर्न मिलता जाएगा - Dainik Bhaskar

इस समय बैंकों द्वारा दिए गए कर्ज पर ब्याज पर ब्याज को लेकर चर्चा है। जिन कर्जदारों ने लोन लिया था उन्हें मोरेटोरियम के मामले में अब ब्याज पर ब्याज देना पड़ रहा है। पर क्या आप जानते हैं कि आप इसी तरह अपने निवेश पर भी ब्याज पर ब्याज ले सकते हैं? हम आपको बता रहे हैं कैसे आपको ब्याज पर ब्याज मिलता है। फाइनेंशियल सेविंग के सेक्टर में इसे कंपाउंडिंग पावर कहा जाता है।

क्या है कंपाउंडिंग पावर

कंपाउंडिंग पावर किसी भी निवेश के मामले में बहुत ही बेहतरीन साधन है। उदाहरण के लिए मान लीजिए आपने किसी म्यूचुअल फंड में एक लाख रुपए निवेश किया। अगले साल इसने 10 प्रतिशत का रिटर्न दिया तो यह आपका 1.10 लाख रुपए हो गया। लेकिन इसके अगले साल आपको अगर दस प्रतिशत रिटर्न मिलता है तो आपकी राशि बढ़कर 1.21 लाख रुपए हो जाएगी। यानी दूसरे साल आपको ब्याज पर पैसा निवेश करना कहाँ लाभदायक है 10 हजार की जगह 11 हजार रुपए एक लाख के निवेश पर मिलेगा। अब यह एक हजार रुपए जो बढ़ा है यह आपके उस 10 हजार पर बढ़ा है जो पहले साल में आपको ब्याज मिला है।

हर साल आपके रिटर्न को निवेश किया जाता है

निवेश पर कंपाउंडिंग इसी को बोलते हैं। हर साल जो आपका रिटर्न होता है उसे फिर से निवेश कर उस पर भी रिटर्न मिलता है। यानी आपको चक्रवृद्धि तरीके से यहां पर रिटर्न मिलता है। वित्तीय सेक्टर में एक सफल निवेशक बनने के लिए कई सारी चीजों का ध्यान रखना होता है। लेकिन इसमें सबसे ब्याज पर पैसा निवेश करना कहाँ लाभदायक है पहले ध्यान आपको वित्तीय लक्ष्यों का रखना होगा। यानी आप किसके लिए निवेश कर रहे हैं, कितना पैसा चाहिए और कितने समय में चाहिए। कोई भी सफल निवेशक इसके बिना निवेश में मास्टर नहीं बन पाता है।

लक्ष्य पहले तय करें

दरअसल लक्ष्य हर एक सेक्टर में होता है। आप पढ़ाई करें, आप नौकरी करें या बिजनेस करें, लक्ष्य ही है जो आपको वहां तक ले जाता है। अगर आप शेयर बाजार, म्यूचुअल फंड या बीमा जैसे वित्तीय बचत में निवेशक बनना चाहते हैं तो आपको लंबी अवधि का नजरिया रखना होगा। लंबी अवधि से आपको यह फायदा होता है कि अगर कोई गलती हो जाती है तो उसे सुधारने में भी आपको समय मिल जाता है। कुछ असेट क्लास लंबे समय में बेहतर रिस्क एडजेस्टेड यानी जोखिम समायोजित रिटर्न देते हैं।

एक तय समय में एक तय लक्ष्य प्राप्त करने का अनुमान मिलने के बाद आपको कॉर्पस बनाने के लिए जरूरी मासिक निवेश का आंकलन करने में आसानी होती है।

जल्दी निवेश करना शुरू करें

जितना जल्दी आप निवेश शुरू करेंगे, आपको लंबी अवधि में कंपाउंडिंग का उतना ही फायदा मिलेगा। कंपाउंडिंग के पावर की वजह से आपको समय के साथ रिटर्न पर रिटर्न मिलता जाएगा, जिससे कम निवेश के जरिए भी लंबी अवधि में आपको बड़ा फंड बनाने में मदद मिलेगी। उदाहरण के लिए, आपको अगर 35 साल में 2 करोड़ जुटाने हैं तो हर महीने 3,500 रुपए की एसआईपी की जरूरत होती है। यह तब होगा जब यह मान लें कि म्यूचुअल फंड सालाना 12 प्रतिशत का रिटर्न देगा। अगर यही दो करोड़ आपको 25 साल में जुटाना है तो आपको 12,000 रुपए की मासिक एसआईपी करनी होगी।

जल्दी निवेश करने के लिए कम पैसे बचाने होंगे

दरअसल जितनी देर से आप कॉर्पस या लक्ष्य को तय करेंगे, उतना ही ज्यादा आपको महीने में पैसे बचाने होंगे। इसलिए जल्दी बचत की शुरुआत आपके लिए अच्छी हो सकती है। शेयर बाजार की बात करें तो यह अभी भी 5 साल और उससे अधिक समय तक के निवेश के लिए सबसे अच्छा असेट क्लास है। कम अवधि में इसमें उतार-चढ़ाव हो सकता है, पर लंबी अवधि में यह अच्छा प्रदर्शन करता है।

डायरेक्ट या म्यूचुअल फंड के जरिए करें निवेश

आप चाहें तो शेयर बाजार में डायरेक्ट निवेश करने के बजाय म्यूचुअल फंड के जरिए निवेश कर सकते हैं। इसके लिए आपको इक्विटी म्यूचुअल फंड में निवेश करना होगा। इससे आपको यह फायदा होगा कि आपका सारा काम फंड मैनेजर करेगा। आपको ब्याज पर पैसा निवेश करना कहाँ लाभदायक है कोई चिंता करने की जरूरत नहीं है। फंड मैनेजर को इसका अनुभव होता है। वह आपके 100 रुपए को दस स्टॉक में निवेश कर के आपको बेहतर रिटर्न दे सकता है।

आपको अगर टैक्स बचाना है तो आप ईएलएसएस (इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम) का भी सहारा ले सकते हैं। इसमें आयकर की धारा 80 सी के तहत आपको टैक्स बचत का लाभ मिलता है।

एकमुश्त पैसा नहीं है तो एसआईपी करें

आपके पास एकमुश्त पैसा नहीं है तो आप एसआईपी को चुन सकते हैं। इसमें आप हर महीने एक तय राशि का निवेश कर सकते हैं। निवेशकों को इसमें एसआईपी टॉप अप कराने का भी मौका मिलता है, जहां वे ज्यादा यूनिट पा सकते हैं। ऐसा करके वे अपने वित्तीय लक्ष्य को कम समय में पा सकते हैं। जब आप लंबी अवधि के लिए निवेश जारी रखते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप कम से कम 6 महीने के अपने अनिवार्य मासिक खर्चों को पूरा करने के लिए एक इमरजेंसी फंड का निर्माण करें।

अनिवार्य खर्च को लक्ष्य बनाएं

अनिवार्य खर्चों में आपके दैनिक जीवन का खर्च, ईएमआई, किराया, यूटिलिटी बिल, बीमा प्रीमियम, आपके बच्चों की ट्यूशन फीस आपके महत्वपूर्ण वित्तीय लक्ष्यों में शामिल होना चाहिए। ऐसा करके आप किसी भी वित्तीय इमरजेंसी की चुनौतियों से निपट सकेंगे। कभी-कभी ऐसा भी होता है कि शानदार रिटर्न वाले फंड भी रिटर्न नहीं दे पाते हैं। ऐसी स्थिति में आप चाहें तो अपने पोर्टफोलियो से ऐसे फंड को हटा सकते हैं। दूसरे फंड में जा सकते हैँ। यह काम आपका फंड मैनेजर कर देगा। इसलिए आपको निवेश पर ध्यान भी देते रहना होगा।

Saving Schemes: डाकघर बचत योजना में निवेश कम और मुनाफा ज्यादा, जानिए कहां पैसा लगाना होगा सही

Small Saving Schemes : डाकघर बचत योजनाएं बेहतर रिटर्न के चलते हमेशा से निवेश का एक अच्छा विकल्प रही हैं.

small savings schemes

Trump Twitter Account Poll: 53% डोनाल्ड ट्रंप को ट्विटर पर बहाल करने के पक्ष में, जानिए एलन मस्क के पोल का रिजल्ट
सुकन्या योजना में निवेश कर बेटी को बनाएं मजबूत
सुकन्या समृद्धि योजना पोस्ट ऑफिस की सबसे ज्यादा ब्याज पाने वाली स्कीम है. इस योजना का मकसद बेटियों का भविष्य उज्जवल करना है. 10 साल से कम उम्र की बच्ची के नाम पर यह अकाउंट डाकघर में खुलवाया जा सकता है. इस योजना ब्याज पर पैसा निवेश करना कहाँ लाभदायक है पर निवेश करने पर 7.6 फीसदी का सालाना ब्याजदर मिलती है. साथ ही आयकर लाभ का फायदा भी उठाया जा सकता है.

बुजुर्ग व्‍यक्ति कैसे अपने निवेश को कर सकते हैं दोगुना, जानिए कहां लगाएं पैसा और क्‍या मिलेगा लाभ

इस योजना के तहत बुजुर्ग व्‍यक्ति 15 लाख रुपये तक का एकमुश्‍त निवेश कर सकते हैं। यह भारत में सभी बैंकों और डाकघरों में उपलब्ध है। इस योजना में अप्रैल-जून तिमाही के लिए 7.4 फीसदी की ब्याज दर देय है।

बुजुर्ग व्‍यक्ति कैसे अपने निवेश को कर सकते हैं दोगुना, जानिए कहां लगाएं पैसा और क्‍या मिलेगा लाभ

बुजुर्ग व्‍यक्ति इस योजना में निवेश कर अपने पैसे को कर सकते हैं दोगुना (फोटो-freepik)

भविष्‍य के लिए अक्‍सर लोग तरह-तरह के निवेश की प्‍लानिंग करते हैं। सरकारी योजनाओं से लेकर लोग बैंक की योजनाओं और अन्‍य स्‍कीमों में निवेश करते हैं। वहीं कोई अगर बीमा योजना में निवेश करना चाहता है, तो वह एलआईसी या फिर अन्‍य संस्‍थाओं में निवेश के बारे में सोचता है। इसके साथ ही शेयर मार्केट और म्‍युचुअल फंड जैसी स्‍कीमों में भी लोग पैसा लगाते हैं। लेकिन सेफ और बिना जोखिम निवेश के लिए लोग ज्‍यादातार लोग सरकारी योजना में ही पैसा लगते हैं।

अगर आप भी बिना जोखिम के सरकारी योजनाओं में निवेश की प्‍लानिंग कर रहे हैं तो यहां एक ऐसी ब्याज पर पैसा निवेश करना कहाँ लाभदायक है स्‍कीम के बारे में जानकारी दी जा रही है, जिसमें आप निवेश कर अपने फंड को दोगुना कर सकते हैं। साथ ही टैक्‍स छूट का भी लाभ दिया जाता है। यह योजना कोई और नहीं बल्कि वरिष्ठ नागरिक बचत योजना (एससीएसएस) स्‍माल सेविंग स्‍कीम है।

इस योजना के तहत बुजुर्ग व्‍यक्ति 15 लाख रुपये तक का एकमुश्‍त निवेश कर सकते हैं। यह भारत में सभी बैंकों और डाकघरों में उपलब्ध है। इस योजना में अप्रैल-जून तिमाही के लिए 7.4 फीसदी की ब्याज दर देय है। यह योजना 60 या उससे अधिक आयु वालों के लिए खुली है।

सर्दी में इन 5 सब्जियों को भूलकर भी फ्रिज में नहीं रखें, बॉडी में ज़हर की तरह करती हैं असर, जानिए कैसे

Capricorn Yearly Horoscope 2023: मकर राशि वालों के लिए साल 2023 कैसा रहेगा; जानें करियर, ब्याज पर पैसा निवेश करना कहाँ लाभदायक है बिजनेस और वैवाहिक जीवन का हाल

Diabetes Control: डायबिटीज में मूंगफली खाना चाहिए या नहीं? इसका सेवन करने से ब्लड शुगर पर कैसा असर पड़ता है एक्सपर्ट से जानिए

Raj Yog: गजलक्ष्मी राजयोग बनने से इन 3 राशि वालों का चमक सकता है भाग्य, गुरु बृहस्पति की रहेगी असीम कृपा

इस योजना के तहत लोग 55 से 60 वर्ष की आयु वर्ग में लाभ उठा सकते हैं और रिटायरमेंट के एक महीने के भीतर एससीएसएस खाता ओपेन कर सकते हैं। वित्त मंत्रालय ने 26 मई, 2020 के एक सर्कुलर में, 2020 में लॉकडाउन अवधि के दौरान रियारमेंट होने वालों के लिए एक महीने के क्लॉज को हटा दिया। सर्कुलर में कहा गया है कि छोटे निवेशकों के लिए कोविड-19 महामारी के कारण यह फैसला लिया गया है।

यह योजना 5 साल के मैच्‍योरिटी के सा‍थ आता है। हालांकि मैच्‍योरिटी पीरियड को समय-समय पर बढ़ाया भी जा सकता है, लेकिन इसके लिए आपको आवेदन करना होगा। मैच्‍योरिटी पीरियड बढ़ाने के साथ ही आप चाहें तो कभी भी खाते को बंद कर पैसे विड्राल किए जा सकते हैं और बिना कटौती के अकाउंट को एक्‍सपायर भी किया जा सकता है।

इस स्‍कीम के तहत अधिकतम 15 लाख रुपये एकमुश्‍त जमा किया जा सकता है। इस योजना के तहत ज्‍चाइंट और सिंगल अकाउंट किया जा सकता है और एक खाते में 15 लाख रुपये तक का निवेश का विकल्‍प है।

अगर कोई वरिष्ठ नागरिक मौजूदा ब्याज दर पर 5 साल की अवधि के लिए 15 लाख रुपये का निवेश करता है, तो तिमाही ब्याज 27,750 रुपये होगा, जो सालाना 111,000 रुपये होगा। मैच्योरिटी के समय, निवेश पर मिला कुल ब्याज 5,55,000 लाख रुपये होगा। मैच्योरिटी पर मिलने वाली कुल राशि 20,55,000 रुपये होगी। वहीं अगर 10 साल के लिए निवेश करते हैं तो यह रकम 30 लाख रुपये के आसपास हो जाएगी।

रेटिंग: 4.42
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 155